चंद्रशेखर रावण से कोई रिश्ता नहीं, BSP के झंडे तले आकर लड़ाई लड़ें: मायावती No relation with Chandrasekhar Ravan, fight under BSP flags: Mayawati



बसपा सुप्रीमो मायावती ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर भी बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि सम्मानजनक सीटें ना मिलने पर बसपा लोकसभा चुनाव अकेले ही लड़ेगी।


नई दिल्ली, ( सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो )   बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने रविवार को अपने नए बंगले 9 मॉल एवेन्यू से मीडिया को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक जब बंगला खाली करने का नोटिस दिया था, तब मैंने अपना बंगला खाली कर दिया था।  इसके बाद मायावती ने बीजेपी की केंद्र और प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने रक्षा सौदों पर सवाल उठाया। साथ ही कहा कि चुनावों को देखते हुए बीजेपी राजनीति कर रही है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मायावती ने चंद्रशेखर उर्फ रावण से कोई रिश्ता ना होने की बात कही। उन्होंने कहा कि वह करोड़ों लोगों की लड़ाई लड़ रही हैं। उन्होंने रावण के लिए कहा कि अलग से संगठन बनाने की जरूरत क्यों? बसपा के झंडे के नीचे आकर लड़ाई लड़ें।

मायावती ने कहा कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोग मुझसे रिश्ता दिखा रहे हैं। सहारनपुर हिंसा में आरोपी चंद्रशेखर मुझसे रिश्ता दिखा रहा है, जबकि मेरा सिर्फ गरीबों से रिश्ता है। ऐसे किसी व्यक्ति से मेरा रिश्ता नहीं है, जो समाज में ऐसा काम करते हैं। समाज में ऐसे बहुत से संगठन बनते चले आ रहे हैं जो अपना धंधा चलाते हैं।

सम्मानजनक सीट ना मिलने पर बसपा अकेले लड़ेगी

इस दौरान गठबंधन पर मायावती ने बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि बसपा गठबंधन के खिलाफ नहीं है, लेकिन बसपा सम्मानजनक सीट मिलने पर ही साथ लड़ेगी। सम्मानजनक सीट ना मिलने पर बसपा अकेले लड़ेगी। मायावती ने कहा कि बीजेपी की केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की गलत नीतियों को ध्यान दिलाना चाहती हूं. जैसे-जैसे लोकसभा और कई राज्यों में विधानसभा चुनाव पास आ रहा है बीजेपी लुभावने वादे कर रही है।

अटल की मौत पर भी राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रही बीजेपी

मायावती ने कहा कि बीजेपी ने कोई चुनावी वादे को पूरा नहीं किया। अब आम जनता इनके झांसे में आने वाली नहीं है। बीजेपी ने देश के करोड़ों गरीबों, मजदूरों, किसानों, बेरोजगारो के साथ वादाखिलाफी की है। मायावती ने कहा कि बीजेपी की केंद्र और राज्यों की सरकार अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए तरह-तरह की रणनीति अपना रहे हैं। उन्होंने एक भी चुनावी वायदे पूरे नहीं किए। ये अटल बिहारी वाजपेयी की मौत पर भी राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रहे हैं।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बीजेपी ने गलत नीतियों से 100 से ज्यादा गरीबों की जान ले ली है। नोटबंदी राष्ट्रीय त्रासदी साबित हुआ है। नोटबंदी का फैसला गलत तरीके से किया गया है। इससे बेरोजगारी बढ़ी है। छोटे उद्योग बंद हो गए। मायावती ने कहा कि डीजल पेट्रोल, रसोई गैस की कीमतें बढ़ गई हैं।

दलितों की मदद करने वाले वकीलों, एनजीओ के साथ सरकार अन्याय कर रही

मायावती ने कहा कि कोर्ट कचहरी में दलितों की मदद करने वाले वकीलों और एनजीओ के साथ भी भाजपा सरकार अन्याय कर रही है। बीजेपी शासित राज्यों में गो-रक्षा के नाम पर मॉब लॉन्चिंग लोकतंत्र को कलंकित कर रहा है। उन्होंने कहा कि सुनहरे दिन के सपने दिखाकर बीजेपी ने केवल पूंजीपतियों का भला किया। महिला सुरक्षा पर बीजेपी की सरकारों की असफलता साफ दिख रही है। यूपी में एंटी रोमियो स्क्वाड निष्क्रिय हो चुका है।

मायावती ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर 2 अप्रैल की घटना के बाद कई दलित लोगों को बीजेपी वालों ने अब तक जेल में बंद कर के रखा हुआ है। इससे दलितों के प्रति बीजेपी की मानसिकता का पता चलता है। अब जनता का बीजेपी पर ज्यादा भरोसा करना अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारना जैसा है। बीजेपी सरकार से दलित, आदिवासी,पिछड़े, अल्पसंख्यक वर्ग काफी आहत हैं।





Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment