UP में BJP को हरा कर ही केंद्र में आने से रोका जा सकता है: अखिलेश यादव Akhilesh Yadav can be stopped by defeating BJP in Uttar Pradesh: Akhilesh Yadav



नयी दिल्ली। समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए रविवार को सभी विपक्षी पार्टियों से एकजुट होने की अपील करते हुए कहा कि भगवा दल को अगर उत्तर प्रदेश में पराजित कर दिया जाता है तो उसे केंद्र में सत्ता में आने से रोका जा सकता है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि कांग्रेस की बड़ी जिम्मेदारी है और उसे सबको साथ लेकर बड़े दिल का प्रदर्शन करना चाहिए। उसे विपक्ष के सभी दलों से चर्चा करनी चाहिए।



सपा प्रमुख ने कहा कि विपक्ष लोक सभा चुनाव के बाद अपना नेता चुनेगा और इसे भाजपा को हराने के बड़े लक्ष्य को हासिल करने के लिए अपने मतभेदों को एक तरफ रखना चाहिए। अखिलेश यादव ने एनडीटीवी के युवा कॉनक्लेव कार्यक्रम में कहा, ‘हम अपना (महागठबंधन का) नेता चुनाव के बाद चुनेंगे। हमें भाजपा को रोकना है। अगर हम भाजपा को उत्तर प्रदेश में रोक पाते हैं तो हम उन्हें पूरे भारत में रोक सकते हैं।’

भाजपा प्रमुख अमित शाह के भगवा दल के 50 साल तक शासन करने के दावे पर तंज कसते हुए यादव ने कहा, ‘50 साल भूल जाइए, लोग 50 हफ्तों में अपना फैसला देंगे।’ उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस की आज बड़ी जिम्मेदारी है। उन्हें अपना दिल खोलने की जरूरत और उन्हें सबको साथ लेना चाहिए। मैं (बसपा प्रमुख) मायावतीजी के लगातार संपर्क में हूं।’ पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि एक अहम गठबंधन बनाने के वास्ते मैं सहायक भूमिका निभाने का इच्छुक हूं।

कॉनक्लेव में राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा, ‘मैं देश को बचाने के लिए यहां हूं।’ उन्होंने कहा कि उन्होंने आरएसएस-भाजपा की विचारधारा का विरोध किया है न कि किसी शख्स का। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘वे कहते हैं कि हमारे पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करने के अलावा कोई एजेंडा नहीं है। क्या हमने पहले भाजपा और आरएसएस का विरोध नहीं किया? हमारी लड़ाई विचारधारा के खिलाफ है, व्यक्तियों के खिलाफ नहीं।’ तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि फिलहाल बदले की राजनीति का दौर है। व्यक्ति या तो हाथ जोड़कर खड़ा रहे या मौजूदा सरकार द्वारा उत्पीड़न का सामना करे।

लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान ने दावा किया कि मोदी सत्ता में वापस आएंगे और 2019 में फिर प्रधानमंत्री बनेंगे। अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि सपा उत्तर प्रदेश में इसलिए चुनाव हारी क्योंकि आरएसएस ने लोगों को गुमराह किया था लेकिन लोगों ने अब उन्हें देख लिया है। उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियों का विश्वास हिला है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘न सिर्फ अपनी पार्टियों बल्कि देश को बचाने के लिए हमें आरएसएस से दूर रहना है। आरएसएस धर्म और जाति के आधार पर हमें बांटती है। इसलिए मैं उनके खिलाफ हूं।’

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की योजना युवाओं को धर्म और जाति के आधार पर लड़ाते रहने की है ताकि वे नौकरियों और आय के बारे में सवाल नहीं पूछें। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी के साथ मेरा गठबंधन उस वक्त उठाया गया सही कदम था लेकिन लोग हमारे संदेश को नहीं समझे, हम सही तरीके से अपना संदेश उन्हें समझा नहीं पाए।’



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment