छठ पर्व दो पक्षों के बीच विवाद में लटका Chhath festival hangs in dispute between two sides



साहिबाबाद, ( षर्वोदय षांतिदूत ब्यूरो )  शालीमार गार्डन मेन स्थित विजय पार्क में निगम की ओर से बनाए जा रहे छठ घाट का मामला शुक्रवार को एक पक्ष के विरोध के कारण गरमा गया और प्रषासन ने यथास्थित बनाये रखने के आदेष दे दिये। इसे लेकर छठ घाट को लेकर दो समुदाय के लोग आमने-सामने हो गए तथा करीब पांच घंटे के हंगामे और बैठकों का दौर बेनतीजा चला। अंत में सिटी मजिस्ट्रेट ने यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दे दिया। इस मामले में प्रषासन ने मामले की जांच करा सरकारी काम में बाधा डालने वालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की बात कही है। 
        
 विजय पार्क में निगम की ओर से छठ घाट का निर्माण किया जाना था इसलिये वहां बुधबार को जेसीवी से गहरा गड्ढा खोदा गया था। आरोप है कि रात में अज्ञात लोगों ने वहां जेसीबी की मदद से मिट्टी डालकर गड्ढा बंद कर दिया। गुरुवार को स्थानीय पार्षद सरदार सिंह भाटी ने निगम के अधिकारियों से इसकी शिकायत की तथा छठ घाट पाटने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की। शुक्रवार सुबह करीब साढ़े दस बजे नगर निगम की टीम जेसीबी के साथ पार्क में छठ घाट का निर्माण करने पहुंची तथा घाट की खुदाई शुरू की। तभी कुछ षरारती तत्वों ने शहीद नगर स्थित एक  धार्मिक स्थल से पार्क में गलत तरीके से धार्मिक स्थल बनाने जाने का एनाउंसमेंट कर वहां बिरोधस्वरूप पहुंचने का एैलान किया गया। देखते - देखते पार्क में एक समुदाय विषेष के सैकड़ों महिलाएं और पुरूष एकत्र हो गए। उन्होंने पार्क में घाट बनाने का विरोध करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। छठ घाट का विरोध करते हुए शहीद नगर की महिलाएं जेसीबी के सामने खड़े हो गई तथा महिलाओं ने मिट्टी डालकर घाट पाटना शुरू कर दिया। सूचना पर भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गई और वहां ष्ंााति करायी गयी।
     
कई दौर की बैठकें चलीं और सिटी मजिष्ट्रेट को मौके पर आना पड़ा। मजिट्रेट ने विरोध करने बाले पक्ष ने अनेक दलीलें दीं लेकिन वे इस बात का जबाव नहीं दे सके कि उन्होंने अपनी बात नगर निगम या जिला प्रषासन से न कर सीधे टकराव का रास्ता क्यों चुना। एक समुदाय के लोगों ने कहा कि टंकी परिसर में पहले से ही एक घाट बना है, तो पार्क में दूसरे की कोई आवश्यकता नहीं है। वहीं, घाट के निर्माण के पक्ष में मौजूद लोगों ने इसे अस्थाई घाट बनाने की बात कही, लेकिन बात नहीं बनी। दोनों पक्षों के लोगों, अधिकारियों के बीच कई बार पार्क में बैठक हुई, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ। इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट यशवर्धन श्रीवास्तव ने दोनों पक्षों को साहिबाबाद थाने पर बुलाया और समझौता होते न देख दोनों पक्षों से यथास्थिति बनाने के आदेष दे दिये। फिल हाल प्रषासन ने थाना साहिबाबाद पुलिस को मामले की जांच कर रिपोर्ट दर्ज करने को कहा है। 
       
उधर थानाध्यक्ष साहिबाबाद दिनेष यादव ने बताया कि निगम की ओर से सरकारी काम में बाधा डालने वालों के खिलाफ कोई तहरीर उन्हें नहीं मिली है। यदि षिकायत आती है तो रिपोर्ट दर्ज कर विधिक कार्रवाई की जायेगी। 



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment