पब्लिक स्कूलो द्वारा अभिभावकों के शोषण पर मुुख्यमंत्री से रोक लगाने की मांग Public Schools demand to ban the Guardian from exploiting the main minister



गायिाबाद, ( सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो )  हनुमान सेना के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री से जिले में शिक्षा माफियाओं द्वारा की जा रही खुलेआम लूट पर रोक लगाने की मांग की है। साथ ही जिला के शिक्षा विभाग व जिला प्रशासन का स्कूल मालिकों से गठजोड़ अभिभावकों का शोषण कर रहा है, जिस पर शीघ्र ही रोक लगाने की मांग की है। आज जिलाधिकारी के माध्यम से पांच सूत्रीय मांग को लेकर मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन दिया है। 

हनुमान सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव चैधरी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर शहर में शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने की मांग की है। पांच सूत्रीय मांग में सेना के अध्यक्ष का कहना है कि  उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जिला पर एक शिक्षा समिति का गठन किया गया जो कि अभिभावकों की समस्या सुनने के लिए बनाई गई थी। इसके उपरांत अभिभावकों की समस्या का समाधान ना करके अभिभावकों का शोषण और भी बढ़ गया है। गाजियाबाद में समिति के गठन होते ही राजनेताओं व स्कूल मालिकों को लाभ पहुंचाया जा रहा है शिक्षा समिति में वही लोग लिए गए हैं जो वर्तमान में सत्ता में बने हैं। और उन्हीं के अपने अपने विद्यालय भी हैं।.                  

ज्ञापन में कहा गया है कि परीक्षा नजदीक आने पर स्कूल मालिक अपनी मनमानी कर रजिस्ट्रेशन व प्रैक्टिकल तथा अन्य तरह से मोटी रकम वसूल रहे हैं विरोध करने पर परीक्षा में ना बैठाने तथा नाम काटकर स्कूल से निकालने की धमकी दे रहे है। कुछ विद्यालयों में बच्चों के साथ मारपीट और बच्चों को स्कूल से निकाल दिया गया है जिस से संबंधित रिपोर्ट थानों में दर्ज कराई गई है परंतु राजनीतिक होने के कारण स्कूल मालिकों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है तथा स्कूल द्वारा यह धमकी दी जा रही है कि सीएम डीएम के यहां चले जाओ हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते।. इसके साथ ही किसी भी स्कूल में सीबीएसई बोर्ड या उत्तर प्रदेश सरकार के नियम व आदेशों को नहीं माना जा रहा है।.                                    

ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि शिक्षा विभाग दुारा आरटीइ के अंतर्गत जो प्रवेश होने थे वह अभी तक नहीं हो सके हैं क्योंकि निजी स्कूल उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। समिति मे बदलाब करा कर अभिभावकों की समस्याओं का समाधान कराया जाए।. शिक्षा विभाग व जिला प्रशासन भी निजी स्कूल मालिकों की भाषा बोलना शुरू कर दिया है और पीड़ित अभिभावक की समस्या का समाधान ना करा कर उसे उल्टा पीड़ित किया जाता है। 

सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव चैधरी ने स्पष्ट कहा है कि अभिभावकों के शोषण को शीध्र रोका जाय अन्यथा सेना प्रदेश व्यापी आंदोलन करने को मजबूर होगी जिसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।.        



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment