बीटिंग रिट्रीट के साथ गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न Republic Day celebrations with beating retreat



नयी दिल्ली ।  गणतंत्र दिवस के समापन समारोह ‘बीटिंग द रिट्रीट’ में सशस्त्र सेनाओं के बैंडों की मंत्रमुग्ध कर देने वाली धुनों और जवानों के कदमताल की गूंज के बीच आज ऐतिहासिक विजय चौक सूर्यास्त होते ही रंग बिरंगी रोशनी से जगमगा उठा। इसके साथ ही चार दिन के गणतंत्र दिवस समारोह का औपचारिक समापन हो गया। 

समारोह की शुरूआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमन के साथ हुई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण , रक्षा राज्य मंत्री डा सुभाष भामरे और तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने राष्ट्रपति की अगवानी की। राष्ट्रीय ध्वज के फहराये जाने के बाद विभिन्न बैंडों ने अपनी प्रस्तुति दी। इस माैके पर उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह , पूर्व प्रधानमंत्री डा मनमोहन सिंह , कई केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे। 

लगभग सवा घंटे चले रंगारंग समारोह में सेना, नौसेना, वायु सेना और राज्य पुलिस तथा केन्द्रीय पुलिस बलों के बैंडों ने विभिन्न मनोहारी धुनों से दर्शकों का मन मोह लिया। इस दौरान कुल 27 प्रस्तुति की गयी जिनमें से 19 की धुनें भारतीय संगीतकारों ने बनायी थी। इनमें इंडियन स्टार, पहाड़ों की रानी, कुमानी गीत, जय जन्म भूमि, क्वीन ऑफ सतपुड़ा, मरूनी, विजय, सोल्जियर माई वेलेंटाइन, भूपल, विजय भारत, आकाश गंगा, गंगोत्री, नमस्ते इंडिया, समुद्रिका, जय भारत, यंग इंडिया, वीरता की मिसाल, अमर सेनानी और भूमिपुत्र है। आठ पश्चिमी धुनों में फेनफेयर बाय बग्लर्स, साउंड बेरियर, इमबलेजोन्ड, ट्विलाइट, एलर्ट, स्पेस फ्लाइट, ड्रमर्स काॅल और एबाइड विद मी हैं। अंत में सदाबाहर धुन सारे जहां से अच्छा ने विजयचौक को गुंजायमान कर दिया। सूर्यास्त के साथ ही नोर्थ ब्लाक और साउथ ब्लाक, संसद भवन सहित विजय चौक के आस-पास की सभी इमारतें रंग बिरंगी रोशनी से जगमगा उठी।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment