दिल्ली के एक होटल में लगी आग, 17 लोगों की मौत Fire at a hotel in Delhi, 17 people died



केंद्रीय मंत्री बोले- इमरजेंसी गेट पर लगा था ताला, 2 गिरफ्तार

नई दिल्ली, ( शांतिदूत न्यूज नेटवर्क )  दिल्ली के करोलबाग स्थित अर्पित पैलेस होटल में आग लगने से अब तक 17 लोगों की जान जा चुकी है। घटनास्थल पर पहुंचे केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस के मुताबिक, होटल में जब आग लगी, तो उसके इमरजेंसी गेट पर ताला लगा हुआ था, जिसके चलते लोग बाहर नहीं आ सके। पुलिस का भी कहना है कि ज्यादातर मौतें दम घुटने से हुई है। केजरीवाल सरकार ने इस मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। पुलिस ने इस हादसे में 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि करोल बाग के गुरुद्वारा रोड स्थित होटल अर्पित पैलेस की दूसरी मंजिल पर मंगलवार आग तड़के साढ़े तीन बजे आग लगी। इसमें 50 से ज्यादा लोग फंस गए। इस दुर्घटना में 35 लोग घायल हुए हैं।

घटनास्थल का दौरा करने के बाद केंद्रीय पर्यटन मंत्री अल्फोंस ने कहा, ‘अगर लोग इमरजेंसी एग्जिट गेट पर आए भी होते, तो शायद ही वो बच पाते। क्योंकि, इस पर ताला लगा था। उन्होंने बताया, ‘मुझे लगता है कि नियमों का उल्लंघन हुआ है। क्योंकि होटल के बैक साइड में कई लकड़ियां, टूटे-फूटे फर्नीचर भी रखे हुए थे, जिससे आग को भड़कने और फैलने में मदद मिली। मैंने मेयर से बात करके यह पता करने को कहा है कि सभी नियमों का पालन हो रहा था या नहीं। अगर होटल मैनेजमेंट द्वारा कोई लापरवाही बरती गई, तो तत्काल कार्रवाई की जाए।’

हादसे के समय होटल में मौजूद थे 53 लोग

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 45 कमरों के अर्पित पैलेस होटल में हादसे के समय 53 लोग थे। आग होटल की दूसरी मंजिल पर लगी। सुबह का वक्त था तो कई लोग उस समय सोए हुए थे, जिस कारण वे फंस गए।

फायर ब्रिगेड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आग लगने की सूचना सुबह चार बजकर 35 मिनट पर मिली। इसके बाद तुरंत फायर ब्रिगेड की 24 गाड़ियां मौके पर भेजी गईं। पुलिस आयुक्त (नई दिल्ली) मधुर वर्मा ने बताया कि कम से कम 35 लोग जख्मी हुए हैं। वहीं, एक व्यक्ति अब भी लापता है। जबकि, दो लोगों ने कूदकर अपनी जान बचाई।

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया, ‘वो कभी न खत्म होने वाला बूरा सपना था’

इस हादसे में सुरक्षित बचे सोमशेखर ने आपबीती सुनाई है। मूल रूप से केरल के रहने वाले सोमेश्वर गाजियाबाद में एक शादी अटेंड करने के लिए दिल्ली आए थे और इस होटल में रूके थे। उन्होंने बताया, ‘ये एक कभी न खत्म होने वाला बुरा सपना था। जब आग लगी तो हम सभी होटल से हरिद्वार जाने की तैयारी कर रहे थे।’
सोमशेखर ने कहा, ‘हमने होटल में चार कमरे बुक किए थे। हम सुबह हरिद्वार जाने के लिए तैयार थे जब अचानक बिजली चली गई। उनके जनरेटर चलाते ही वहां धुआं और बदबू थी। चारों तरफ आग की लपटें थी। हम लोगों में से 10 को पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम ने बचा लिया।’

दिल्ली सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने करोलबाग अर्पित होटल में आग लगने से मरने वाले लोगों के परिजन को पांच लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है। घटना स्थल पर पहुंचे दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिल्ली सरकार ने मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जो भी लोग दोषी होंगे सख्त कार्रवाई की जाएगी।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment