केवाईएस ने दिल्ली सरकार की घटिया और भेदभावपूर्ण शिक्षा नीति के खिलाफ किया प्रदर्शन



  • दिल्ली सरकार की स्कूली बच्चों को अलग.अलग करने की नीति की भर्त्सना की
  • आप सरकार की फेल छात्रों को पत्राचार माध्यम मेंढकेलने की नीति की निंदा की
  • दिल्ली सरकार के 8वीं फ़ेल छात्रों पर व्यावसायिक विषय थोपने की भी केवाईएस ने की भर्त्सना 

नई दिल्ली, ( विशेष संवाददाता )  क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) कार्यकर्ताओं ने आज अन्य प्रगतिशील संगठनों और सरकारी स्कूल के बच्चों के साथ दिल्ली मुख्यमंत्रीए अरविन्द केजरीवाल के आवास पर आप सरकार की घटिया और भेदभावपूर्ण शिक्षा नीति के खिलाफ प्रदर्शन कियाद्य ज्ञात हो कि दिल्ली सरकार स्कूली शिक्षा में सुधार लाने की बात कहती रही हैए मगर असलियत में उसने अपनी नीतियों द्वारा शिक्षा में गैरबराबरी को बढ़ाया ही हैद्य गैर.बराबरी बढाने वाली क़दमों में सबसे बड़ा कदम 5 नए ष्स्कूल ऑफ़ एक्सीलेंसष् खोलना जहाँ सबसे कुशल शिक्षक पढ़ाएंगे और साड़ी सुविधाएं मुहैया होंगीए जबकि दिल्ली के बहुसंख्यक छात्र घटिया स्थिति में पढने को मजबूर रहेंगेद्य ऐसे उत्कृष्ट विद्यालय खोलने से एक गैर.बराबर समाज में छात्रों के बीच गैर.बराबरी और भी ज्यादा बढ़ेगीए क्योंकि इस विद्यालय द्वारा कुछ छात्रों को अच्छी पढ़ाई देकर लाखों छात्रों को बेकार पढाई देने की नीति को बनाये रखा जा सकेगाद्य 

साथ ही आप सरकार ने छात्रों को उनकी ष्योग्यताष् के आधार पर तीन हिस्सों में बाटने का एक और कदम उठाया हैद्य छात्रों को ष्विशवासष् ;फेल छात्रों के लिएद्धए ष्निष्ठाष् ;जो फेल हो सकते हैंद्ध और ष्प्रतिभाष् ;जो पढने में अच्छे हैंद्ध के आधार पर बाँटा गया हैद्य छात्रों को न सिर्फ अलग.अलग समूहों में बांटा गया है बल्कि उन्हें अपनी योग्यता के अनुसार अलग.अलग पाठ्यक्रम भी पढ़ाया जाता हैद्य यह नीति छात्रों के एक हिस्से को आगे बढाने की नीति हैए जिसके तहत उन छात्रों को तो प्रोत्साहित किया जाएगाए जो पढने में अच्छे हैं परन्तु जो छात्र कमज़ोर हैं उनको पढ़ाने का दायित्व त्याग कर आप सरकार उन्हें पढ़ाई छोड़ने या व्यवसायिक पढ़ाई करने को मजबूर करना चाहती हैद्य पिछले 4 सालों में दिल्ली के सरकारी स्कूलों की दसवीं व बारहवीं की नियमित कक्षाओं में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या में क्रमशरू 43ए540 व 53ए431 की कमी आई हैद्यएक और रिपोर्ट के अनुसार 2016 में दिल्ली में 85ए000 बच्चे स्कूलों से बाहर हुएद्य

साथ ही,  केवाईएस दिल्ली सरकार द्वारा 8वीं फ़ेल छात्रों को 9वीं कक्षा में उत्तीर्ण कर उन्हे व्यावसायिक विषय देने के कदम की भी कड़ी भर्त्सना करता हैद्यसंसद द्वारा इस साल से नो.डिटेनशन पॉलिसी की 8वें तक अनिवार्यता को खत्म कर दिया गया हैद्यइस कारण छात्रों को 8वीं पास कराने के नाम पर आप.शासित दिल्ली सरकार 9वीं कक्षा में व्यावसायिक विषय थोपना चाहती हैद्यसरकार उन 8वीं फ़ेल छात्रों को 9वीं में दाखिला देगी जो व्यावसायिक विषयों को चुनेंगेद्यइस कदम से गरीब पृष्ठभूमि के छात्रों को ज़बरदस्ती व्यावसायिक विषयों में ढकेला जाएगाए जिससे उन छात्रों के अपने परंपरागत कामों मे फंसे रहने का मार्गसशक्त होगा औरजोबहुसंख्यक छात्रों की खराब स्थिति को बरकरार रखने का काम करेगाद्यसाथ हीएइस कदम से दिल्ली विश्वविद्यालय में भी उनका दाखिला और भी ज्यादा मुश्किल हो जाएगाए क्योंकि दिल्ली विश्वविद्यालय में अंक फीसदी निर्धारित करने के लिए मुख्य चार विषयों में व्यावसायिक विषयों को चुनने का विकल्प नहीं होता हैद्य
केवाईएस कार्यकर्ताओं और प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने मुख्यामंत्री के नाम एक ज्ञापन भी सौंपाद्य ज्ञापन में मांग की गयी कि सरकार द्वारा सभी भेदभावपूर्ण क़दमों को वापस लिया जाएद्य मांग न माने जाने पर केवाईएस ने आने वाले दिनों में आप सरकार की भेदभावपूर्ण शिक्षा नीति के खिलाफ अपना आन्दोलन तेज़ करने का ऐलान किया हैद्य



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment