विपक्ष के हंगामे से राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिये स्थगित Rajya Sabha proceedings adjourned for the day due to opposition's opposition



नयी दिल्ली । तेरह अंको वाली रोस्टर प्रणाली को समाप्त करने के लिए विधेयक लाने की मांग को लेकर सभी विपक्षी सदस्यों ने गुरुवार को राज्यसभा में जम कर हंगामा किया जिसके कारण कोई कामकाज नहीं हो सका और सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित कर दी गयी।

सदन में विपक्षी सदस्यों ने इस मुद्दे पर सदन में विधेयक लाने की मांग की लेकिन सरकार ने उन्हें कोई आश्वासन नहीं दिया। इसके कारण भाेजनावकाश से पहले सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित की गयी। भाेजनावकाश के बाद भी इसी मुद्दे पर विपक्षी दलों के सदस्यों की नारेबाजी जारी रही जिससे कारण सदन की कार्यवाही कल तक के लिये स्थगित करनी पड़ी। 

भोजनावकाश के बाद सभापति एम. वेंकैंया नायडु ने सदन की कार्यवाही शुरू करते हुए राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा आरंभ करने के लिये भारतीय जनता पार्टी के भूपेंद्र यादव का नाम पुकारा तो बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी , तृणमूल कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के सदस्य नारे लगाते हुए आसन के समक्ष आ गये। कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दलों के सदस्य अपनी सीटों पर खड़े हो गये। सभापति ने उनसे अपनी सीटों पर लौटने और सदन की कार्यवाही चलने देने की अपील की। उन्होंने कहा कि यह वरिष्ठों का सदन है और पूरा देश उनको देख रहा है। सभापति ने कहा कि सदस्यों का इस तरह का आचरण लोकतंत्र का अपमान है। नारेबाजी कर रहे सदस्यों पर सभापति की अपील का कोई असर नहीं पड़ा और उनका हंगामा जारी रहा। इससे सभापति ने सदन की कार्यवाही कल तक स्थगित करने की घोषणा कर दी। 

इससे पहले सदन की कार्यवाही जब सुबह शुरू हुई तब श्री नायडु ने सदस्यों से कहा कि अब इस सत्र के समाप्त होने में चार दिन बचे हैं क्योंकि कल निजी सदस्यों के लिए कामकाज का दिन होता है। इसलिए राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए सदन तय करे कि चर्चा कब शुरू हो और कितने दिन चले और कब जवाब हो।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment