ब्राह्मणों को जोड़कर अमरपाल शर्मा ने बढ़ाई सुरेश बंसल की ताकत Amarpal Sharma added strength to Suresh Bansal by adding Brahmins



  • साहिबाबाद समेत 31 गांवों के ब्राह्मणों की बैठक की
  • एक स्वर से लिया गया बंसल को समर्थन का संकल्प


गाजियाबाद, ( सर्वोदय शांतिदूत ब्यूरो )  सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी सुरेश बंसल के चुनाव में साहिबाबाद के पूर्व विधायक पं. अमरपाल शर्मा बड़ा किरदार अदा कर रहे हैं। उन्होंने चुनाव को द्विकोणीय बनाने में अहम भूमिका निभा रखी है। चुनाव में श्री शर्मा ऐसे मेहनत कर रहे हैं, जैसे वे खुद मैदान में हों। कल श्री शर्मा ने मुरादनगर में साहिबाबाद विधानसभा क्षेत्र और जिले के 31 गांवों के ब्राह्णों की एक बैठक कर बिरादरी के स्वाभिमान का सवाल उठाया। बैठक में भाजपा को हराने और गठबंधन के उम्मीदवार सुरेश बंसल को समर्थन देने का संकल्प लिया गया। इस बैठक ने भाजना खेमे में खलबली पैदा कर दी है।

बैठक में रावली, सुराना, नेकपुर, कुन्हैड़ा, ज्ञासपुर, बंदीपुर, सिकरैड़ा, हुसैनपुर, खोड़ा, साहिबाबाद, लाजपतनगर, नंदग्राम, सिहानी, सूर्यनगर, इंदिरापुरम, वैशाली, चंद्रनगर, चौना नगला, कनौजा,  सीकरी, मोरटा के तकरीबन ढाई सौ ब्राह्मण नेताओं ने हिस्सा लिया। पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा ने बैठक में कहा कि ब्राह्मणों की ताकत कमजोर करने के लिये उन्हें हत्या के झूठे आरोप में पूरे 301 दिन जेल में रखा गया। इस साजिश में निवर्तमान सांसद ने अहम भूमिका निभाई। अपने पूरे कार्यकाल में उन्होंने ब्राह्मणों की उपेक्षा और उत्पीड़न किया। अब इस अपमान का जवाब देने का वक्त है। पूर्व विधायक ने कहा कि भाजपा के सत्ता में रहते ब्राह्मण हमेशा उपेक्षित और उत्पीड़ित रहेंगे। श्री शर्मा ने कहा कि लोकसभा में चार लाख से ज्यादा ब्राह्ण हैं और इस बार चुनाव में यह वोटबैंक हार-जीत की धुरी बना हुआ है। अगर अपने सियासी वजूद का अहसास कराना है तो एकजुट होकर इसलिये गठबंधन के उम्मीदवार को जिताना होगा, क्योंकि कांग्रेस प्रत्याशी चुनावी रेस से बाहर है। उन्होंने ब्राह्मणों से गठबंधन प्रत्याशी सुरेश बंसल को मदद और समर्थन देने की अपील की। बॉबी पंडित के संचालन में हुई बैठक में मुख्य रूप से नरेन्द्र शर्मा, गोविन्द कौशिक, नरेश शर्मा, सुनील शर्मा, नरेशचन्द्र शर्मा, जयप्रकाश शर्मा, चन्द्रेश शर्मा, ललित शर्मा, गौरव शर्मा, दिनेशचन्द्र शर्मा, गजराज शर्मा समेत तमाम ब्राह्मण नेता शामिल थे। 

लम्बी तकरीर के बाद बैठक में मौजूद ब्राह्मणों ने एकस्वर से भाजपा को हराने और सुरेश बंसल को समर्थन देने का संकल्प लिया। बाद में गठबंधन प्रत्याशी के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर जनसम्पर्क किया। सुरेश बंसल ने ब्राह्णों के अलावा दूसरी बिरादरियों के लोगों से भी सम्पर्क साधा और वोट की अपील की। लोगों में इस दौरान भाजपा शासन को लेकर गुस्सा नजर आया। उन्होंने गठबंधन को वोट देने का भरोसा दिया।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment