‘देशद्रोह’ के समान थी नाेटबंदी: विपक्ष 'Desperation' was similar to Nationwide: Opposition



नयी दिल्ली ।  कांग्रेस समेत विपक्ष के कई दलों ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं पर निर्धारित समय के बाद भी पुराने नोट बदलने का आरोप लगाया और कहा कि नोटबंदी एक ‘देशद्रोह’ थी जिसमें सरकारी खजाना लूटा गया था। 

विपक्षी दलों ने मंगलवार यहां एक संयुक्त संवादददाता सम्मेलन में एक वीडियो टेप जारी किया और कहा कि नोटबंदी के जरिए जनता का पैसा लूटा गया था। भाजपा नेताओं ने निर्धारित समय सीमा के बाद भी पुराने नोटों को नये नोटों में बदला है अौर इसके लिए 40 प्रतिशत तक ‘कमीशन’ लिया गया । टेप में भाजपा के अहमदाबाद कार्यालय में कुछ लोगों को पांच लाख रुपए के पुराने नोटों को 40 प्रतिशत कमीशन के साथ बदलते दिखाया गया है।

संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल, मल्लिकार्जुन खड़गे और रणदीप सिंह सुरजेवाला, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, राष्ट्रीय जनता दल के मनोज झा तथा अन्य दलों के नेता माैजूद थे। 

श्री सिब्बल ने दावा किया कि जारी किया गया टेप 31 दिसंबर 2018 के बाद का है जिसमें भाजपा के अहमदाबाद कार्यालय में कारोबारी अपने नोट बदलवाने के लिए आ रहे हैं। ये मेहनत की कमाई है और उनका पैसा 40 प्रतिशत कमीशन लेकर बदला जा रहा है। उन्होेंने कहा कि यह टेप में दिखायी गयी “नोटों की दीवार” सरकारी धन की है। यह भारतीय रिजर्व बैंक का धन हैं। सरकारी खजाना है जो कोई लूट रहा है। वास्तव में नोटबंदी के जरिए सरकारी खजाना लूटा गया है। इसके लिये कोई भी सजा कम है।


Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment