चुनाव आयोग कार्यालय के बाहर आप का धरना Election Commission



नयी दिल्ली । आम आदमी पार्टी (आप) ने अपनी पार्टी के काल सेंटर पर छापे मारे जाने तथा कर्मचारियों को कथित रूप से प्रताड़ित किये जाने के विरोध में दिल्ली पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर शुक्रवार को यहां चुनाव आयोग कार्यालय के बाहर धरना दिया।

आप नेता एवं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की अगुवाई में चुनाव आयोग कार्यालय पहुंचे एक प्रतिनिधिमंडल ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के इशारे पर पुलिस पिछले चार दिन से आप के काल सेंटर पर तलाशी का काम कर रही है। प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों सतीश गोलचा, राजीव रंजन और पंकज सिंह को निलंबित करने की मांग की ।

इससे पहले श्री सिसोदिया और आप राज्यसभा सांसद संजय सिंह और पार्टी के अन्य प्रमुख नेता चुनाव आयोग कार्यालय पहुंचे और मुख्य चुनाव आयुक्त से मिलने की प्रतीक्षा की। श्री सिसोदिया ने ट्वीट किया,“ मैं चुनाव आयोग के बाहर खड़ा हूँ और चुनाव आयुक्त से मिलने के लिए प्रतीक्षा कर रहा हूं। जब तक चुनाव आयुक्त नहीं मिलेंगे, तब तक मैं निर्वाचन सदन के बाहर इंतज़ार करुंगा।”

श्री सिसोदिया और श्री सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि भाजपा के इशारे पर दिल्ली के 24 लाख मतदाताओं का नाम मतदाता सूची से निकाल दिया गया था। आप ऐसे लोगों का नाम फिर से मतदाता सूची में शामिल करने के लिए एक अभियान चला रही है और इसके लिए कॉल सेन्टर की मदद ली जा रही है। इन कॉल सेन्टरों के मालिकों के यहां दबाव बनाया जा रहा है और पुलिस उन्हें परेशान कर रही है। पुलिस अधिकारी कॉल सेन्टर के मालिकों को बुलाकर उनके साथ बुरा व्यवहार कर रहे हैं तथा वहां काम कर रहे कर्मचारियों से भी अनावश्यक जानकारी मांगी जा रही है। इस प्रकार की कार्रवाई से शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव प्रभावित हो सकता है।

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस भाजपा के इशारे पर उनकी पार्टी के काल सेंटरों पर छापे मार रही है। उन्होंने सवाल उठाया कि उनकी तरफ से ऐसा क्या गलत हुआ कि इस तरह की कार्रवाई की जा रही है।

श्री केजरीवाल ने ट्वीट किया,“पुलिस ने बिना तलाशी वारंट के छापे मारे हैं। क्या हो रहा है। अपराध क्या है।” उन्होंने कहा,“पुलिस काल सेंटर पर पहुंची। केवल सर्वर और हमारे डाटा की जानकारी ली जा रही है।”
उन्होंने सवाल उठाया, “क्या मुख्य चुनाव आयोग हमारे काल सेंटरों पर छापे मार रहे हैं और हमारे डाटा के बारे में पूछताछ कर रहे हैं। हमारा अपराध क्या है। कृपया, कम से कम हमारा अपराध तो बतायें।”


Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment