गणित विभाग के छात्रों का कुलपति कार्यालय पर बड़ा प्रदर्शन Great performance at the Vice-Chancellor's Office of the students of the Department of Mathematic



  • केवाईएस कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में निभाई हिस्सेदारी
  • प्रशासन के उदासीन रवैये की केवाईएस करता है कड़ी भर्त्सना


नई दिल्ली, ( विशेष संवाददाता )  क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) कार्यकर्ताओं ने आज डीयू के गणित विभाग द्वारा छात्रों को फर्जी चेकिंग कर बड़ी संख्या में फ़ेल किए जाने के खिलाफ डीयू कुलपति कार्यालय पर प्रदर्शन में हिस्सेदारी निभाई| ज्ञात हो कि छात्र पिछले 14 फरवरी से गणित विभाग द्वारा फर्जी चेकिंग के खिलाफ आंदोलनरत हैं, जिसके कारण भारी संख्या में छात्र परीक्षा में फ़ेल हुए हैं| इनमें तीन पेपर में क्रमशः 40 में 35, 300 में 150 और 300 में 130 छात्र फ़ेल हुए हैं, जबकि एक अन्य पेपर में ज़्यादातर छात्रों के बेहद ही खराब अंक आए हैं| छात्रों का बड़ो संख्या में फ़ेल होना विभाग के नाकाम होने का द्योतक है| साथ ही, बड़ी संख्या में छात्रों के फ़ेल होने का यह सिलसिला काफी पुराना और व्यापक है| इस तरह के परिणाम भौतिकी, रसायन विज्ञान, अँग्रेजी, नॉन-कॉलेजिएट विमन्स एडुकेशन बोर्ड में भी पिछले सालों में देखे गए हैं| गणित विभाग में भी उन छात्रों को अनुपस्थित लिखा गया है जो परीक्षा में उपस्थित थे, और कई छात्र जो अनुपस्थित थे उन्हे पास किया गया है|

छात्र जिन मुद्दों के लिए संघर्षरत हैं, उनमें सबसे मुख्य परीक्षा में गलत मूल्यांकन किया जाना है| इस विषय में छात्र प्रशासन से मूल्यांकन प्रक्रिया को पारदर्शी बनाये जाने और उन्हें उत्तरपुस्तिका दिखाई जाने की मांग कर रहे हैं। मगर उनकी यह जायज़ मांग मानने से प्रशासन साफ इंकार कर रहा है| यहाँ यह ध्यान रखना बेहद आवश्यक है कि सर्वोच्च न्यायलय ने भी सी.बी.एस.ई को निर्देश दिये थे कि इच्छुक छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका देखने के अधिकृत हैं| इस तौर पर विभाग द्वारा उत्तर-पुस्तिका नहीं दिखाना सिर्फ़ मनमानीपूर्ण ही नहीं बल्कि पारदर्शिता के सारे पैमानों की अवमानना है| विभाग की मनमानी से छात्रों पर दोहरी मार पड़ रही है क्योंकि एक तरफ छात्र बड़ी संख्या में फेल हो रहे हैं और दूसरी तरफ उन्हें अपनी उत्तर-पुस्तिकायें भी नहीं दिखाई जा रही|

इसके अतिरिक्त छात्रों द्वारा अन्य मुद्दों को भी उठाया जा रहा है जैसे पुनःजाँच के लिए परीक्षा विभाग द्वारा बड़ी राशि का लिया जाना, सपलीमेंटरी परीक्षा को खत्म किया जाना, पेपर जांच के दौरान पक्षपात किया जाना और विभाग में आंतरिक शिकायत समिति (आई.सी.सी) का न होना| छात्रों की बड़ी संख्या में फ़ेल होने की समस्या पर विभाग का उदासीन रवैया साफ झलकता है| जिस पेपर में छात्रों की बड़ी संख्या फ़ेल हुई है, उसको विभाग द्वारा खत्म करने की बात कही जा रही है| ज्ञात हो कि पिछले दिनों विश्वविद्यालय के गार्डों और पुलिस द्वारा विभाग ने छात्रों के आंदोलन को खत्म करने का भी प्रयास किया है| पिछले दिनों में आंदोलनरत छात्रों ने डीयू प्रशासन से भी मिलने की कोशिश की है, परंतु कुलपति और रजिस्ट्रार ने छात्रों से मिलने के लिए मना कर दिया है|

छात्र पिछले हफ्ते से हड़ताल पर हैं और एक छात्र पिछले 4 दिनों से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर है, परंतु प्रशासन का रवैया असंवेदनशील एवं उदासीन बना हुआ है| छात्रों ने तब तक अपना प्रदर्शन तब तक जारी रखने का फैसला किया है जबतक छात्रों के पेपर दोबारा चेक नहीं किए जाते हैं और उनकी दोबारा परीक्षा नहीं कारवाई जाती है| केवाईएस विश्वविद्यालय के उदासीन रवैये की कड़ी भर्त्सना करता है और आने वाले दिनों में पुरजोर तरीके से छात्रों को अपना समर्थन देगा|



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment