सपा ने जारी किया 'विजन डॉक्यूमेंट' SP releases 'Vision Document'



लखनऊ । समाजवादी पार्टी (सपा) ने लोकसभा चुनाव के लिये शुक्रवार को अपना 'विजन डॉक्यूमेंट' जारी किया।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस में 16 पेज का दस्तावेज 'सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन' जारी करते हुए कहा कि विजन डॉक्यूमेंट में राष्ट्रीय सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा, महिलाओं की सुरक्षा, पर्यावरण की सुरक्षा और देश की खुशहाली के लिये पार्टी की योजनाओं को पेश किया गया है।

उन्होंने कहा कि सपा—बसपा—रालोद गठबंधन के कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में जनता के बीच में हैं। और वे संकल्प कर रहे हैं कि आने वाले समय में भारत का भविष्य बेहतर हो। सभी वर्ग कैसे खुशहाल हों] इसके लिये जरूरी है कि एक दस्तावेज हो, जो हमारे लक्ष्यों, विजन, विचारधारा को दिखाये। अखिलेश ने समाजवादी धारा के प्रणेता डॉक्टर राम मनोहर लोहिया को उद्धत करते हुए कहा कि गरीबी के खिलाफ लड़ाई एक धोखा है जब तक जाति और लिंग के आधार पर भेदभाव के खिलाफ लड़ाई ना हो। इसलिये यह किताब 'सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन' एक नयी दिशा और नयी उम्मीद के साथ हम जनता के बीच ले जाना चाहते हैं। यह हमारे नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ—साथ खुद हमारे लिये भी है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जीएसटी से बड़े पैमाने पर व्यापारियों को नुकसान हुआ है। नोटबंदी से लोगों की जान चली गयी, मगर सरकार के पास कोई जवाब नहीं। बैंक घाटे में हैं। विकास का रास्ता कुछ लोगों तक सीमित रह गया। सपा का मानना है कि बिना प्राइमरी शिक्षा को बेहतर किये कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी किसानों का पूरा कर्ज माफ किये जाने के पक्ष में है।

इस सवाल पर कि क्या यह दस्तावेज सपा का चुनाव घोषणपत्र है, अखिलेश ने कहा 'अगर मैं हां कहूंगा तो आप पूछेंगे कि क्या हम सरकार बनाने जा रहे हैं। यह एक विजन डॉक्यूमेंट या पार्टी कार्यकर्ताओं के लिये संदेश है, ताकि वे भाजपा को जवाब दे सकें और विभिन्न मुद्दों पर पार्टी के रुख को समझ सकें।' मालूम हो कि सपा इस बार बसपा और रालोद के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ रही है। माना जा रहा था कि ये सभी दल एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम जारी करेंगे।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा दावा करती है कि हमने विकास किया, लेकिन यह सचाई नहीं है। अगर यह सबकुछ होता तो नौकरियां मिलतीं।

उन्होंने कहा कि हमारा मानना है कि देश के सभी वर्गों का भविष्य बेहतर होना चाहिये।




Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment