दिल्ली विश्वविद्यालय के सफाई कर्मचारियों ने किया भूख हड़ताल, केवाईएस हुआ शामिल Delhi University's Clean Workers did the hunger strike, KYS happened



  • सैकड़ों की संख्या में नौकरी से निकाले गए सफाई कर्मचारी
  • कर्मचारियों ने डीयू के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखने का किया ऐलान


नई दिलली, ( विशेष संवाददाता ) क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) कार्यकर्ताओं ने आज अन्य संगठनों के साथ मिलकर, आर्ट्स फैकल्टी, दिल्ली विश्वविद्यालय पर डीयू के सफाई कर्मचारियों द्वारा नौकरी से निकाले जाने के खिलाफ भूख हड़ताल को अपना समर्थन दिया।
ज्ञात हो कि सफाईकर्मी अपनी नौकरी जाने के विरोध में कई दिनों से आंदोलनरत हैं। यह सफाईकर्मी एनजीओ सुलभ इंटरनेशनल में कार्यरत थे, और दिल्ली विश्वविद्यालय में पिछले 10-15 सालों से काम कर रहे थे। मगर, उन्हें 1 मई से नौकरी से हटा दिया गया है, क्योंकि सुलभ के साथ डीयू ने अपने अनुबंध को खत्म कर, उसका काम अब नयी कंपनी, नेक्सजेन को दे दिया है। ध्यान देने योग्य बात है कि सफाईकर्मियों को मई दिवस या अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के मौके पर निकाला गया था, जो दिखाता है कि मौजूदा व्यवस्था कितनी मजदूर-विरोधी है।
सुलभ का कांट्रैक्ट खत्म किए जाने से सैकड़ों मजदूरों की नौकरी चली गयी है। सुलभ को डीयू द्वारा 2005 में सफाई के काम के लिए  अनुबंधित किया गया था। मगर, सुलभ द्वारा सफाई मजदूरों का अति-शोषण किया जाता था। सुलभ न केवल मजदूरों को भविष्य निधि और ई.एस.आई सुविधा नहीं देती थी, बल्कि उनको लंबे घंटे काम करवाने के बावजूद उनको ओवरटाइम का भी पैसा नहीं देती थी। डीयू प्रशासन इस बात को पूरी तरह से जानबूझकर नजरअंदाज करता रहा, जिससे यह साफ पता चलता है कि वो मजदूरों के हक भी नहीं सुनिश्चित करता था। जब कुछ सफाईकर्मियों ने मिलकर इसके खिलाफ कोर्ट में मुकदमा किया, तब ही जाकर सुलभ का अनुबंध खत्म कर नयी कंपनी को लाया गया।
मगर अब जो मजदूर पहले से नौकरी में थे, उन सभी को बाहर निकाल दिया गया है। डीयू, जो कि मुख्य नियोक्ता है, उसको यह सुनिश्चित करना चाहिए था कि जो लोग पहले से कार्यरत थे, उनको नयी कंपनी द्वारा काम पर रखा जाये। मगर डीयू ने अपनी इस जिम्मेदारी से पूरी तरह से पल्ला झाड़ लिया है। यह इस पूरे मामले में डीयू की  मिलीभगत दिखाता है, क्योंकि मजदूरों के हक सुनिश्चित करना उसी की जिम्मेदारी है। कर्मचारियों की मुख्य मांग है कि उन्हें स्थायी नौकरी दी जाये और उनको भविष्य निधि की राशि एवं ईएसआई सुविधा दी जाए। सफाई कर्मचारियों ने डीयू के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखने का निर्णय लिया है। केवाईएस आने वाले दिनों में मजदूरों के साथ उनके संघर्ष में अपनी एकता सुनिश्चित करेगा।





Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment